कोन्ट्रेक्ट फॉर डिफरेंस (सीएफ़डी) ऑनलाइन ट्रेड किए जाने वाले सबसे लोकप्रिय वित्तीय लिखत में से एक है। प्रतिदिन खरबों डॉलर की ट्रेडिंग की जाती है । लेकिन, सीएफ़डी ट्रेडिंग में उच्च जोखिम होता है। कोई भी ट्रेडर, जिसने इन वित्तीय लिखतों को खरीदा और बेचा है, इस बात से सहमत होगा कि एक छोटी सी भी गलती आपके निवेश बड़ा हिस्सा डूबा सकती है। दूसरी ओर, एक जीतने वाली ट्रेड आपके निवेश की हुई राशि का कई गुना मुनाफ़ा कमा सकती है।

बड़ा पैसा कमाने के मोह के अतिरिक्त, ट्रेडर्स इसलिए भी सीएफ़डी ट्रेड चुनते हैं क्योंकि इनका निपटारा नकद में होता है न कि प्रतिभूतियों या भौतिक वस्तुओं में ।

अंतर के लिए अनुबंधकोन्ट्रेक्ट फॉर डिफरेंस क्या है?
एक सीएफ़डी वास्तव में खरीददार और विक्रेता के बीच एक अनुबंध होता है। यह अनुबंध निर्धारित करता है कि  विक्रेता खरीददार को असली वित्तीय लिखत के वर्तमान मूल्य और अनुबंध के समय(अनुबंध की समाप्ति) पर इसके मूल्य का अंतर चुकायेगा।  लेकिन, अगर यह अंतर नकारात्मक हो तो खरीददार अंतर की राशि का भुगतान करेगा।
खरीददार वास्तव में अटकलें लगा रहा होता है कि असल संपत्ति का मूल्य बढ़ेगा या घटेगा। अंतर की राशि का निपटारा नकद में किया जाता है। इस प्रकार, खरीददार वास्तव में ट्रेड की जा रही वित्तीय लिखत का स्वामी नहीं होता बल्कि अनुबंध समाप्त होने तक सीएफ़डी पर अधिकार रखता है।
सीएफ़डी के ज़रिए ट्रेड किए जाने वाले कुछ वित्तीय लिखतों में बहुमूल्य धातुएं, कच्चा तेल और इक्विटी डेरिवेटिव शामिल हैं।

इस बात में कोई शक नहीं कि सीएफ़डी ट्रेडिंग से पैसा बनाया जा सकता है। दुर्भाग्य से, ज़्यादातर ट्रेडर अक्सर खुद को घाटे में (नकारात्मक अंतर राशि) पाते हैं। साधारणतया यह टाली जा सकते वाली गलतियों के कारण होता है, जिनमें से पाँच को हमने नीचे  स्पष्ट किया है।

टॉप 5 सीएफ़डी ट्रेडिंग की गलतियाँ जिनसे आपको बचना चाहिए

1. एक ट्रेड पर ज़रूरत से ज़्यादा पैसा लगाना

आपने किसी विशेष लिखत के बारे में पूरी जानकारी ले ली है और उसकी मूल्य दिशा के बारे में पूरी तरह आश्वस्त है। अपने मुनाफे को अधिक से अधिक बढ़ाने के लिए आप अपने अकाउंट बैलेंस का 50% इस पर लगाने का निर्णय ले लेते है। मूल्य आपकी अनुमानित दिशा में ही जाती है। तभी, इसकी दिशा अचानक पलट जाती है।  किस्मत से आपने स्टॉप लॉस तो लगाया था लेकिन आपकी निवेश की हुई राशि का बड़ा हिस्सा अब डूब चुका है।

यहाँ तक कि अनुभवी ट्रेडर भी ऐसे परिदृश्य से गुज़र चुके हैं।

सीएफ़डी मार्केट बहुत अधिक परिवर्तनशील है।अचानक कीमत का पलट जाना आम बात है। इसलिए कोई ट्रेड एक निश्चित मूल्य बिन्दु तक पहुंचेगी इसका शतप्रतिशत निश्चय करने का कोई तरीका नहीं है।

गलतियों से बचने के लिए सरल नियमों का अनुसरण करें। कभी भी अपने उपलब्ध अकाउंट बैलेंस का 2% से अधिक एक ही ट्रेड पर न लगाएँ। साथ ही, यद्यपि लेवेरेज़ ट्रेड में प्रॉफ़िट की संभावना को बढ़ता है, फिर भी आपको इसका कभी-कभी ही प्रयोग करना चाहिए।

2. तुक्का लगाना

बिना ये जाने कि मूल्य क्यूँ घाट या बढ़ सकता है केवल मूल्य दिशा का अनुमान लगा लेने का परिणाम घाटा ही होगा। सीएफ़डी बाज़ार की परिवर्तनशीलता राजनीति से लेकर मौसम तक कई आधारभूत कारकों से प्रभावित होती है। किसी वित्तीय लिखत पर धन निवेश करने से पहले उन कारणों के बारें में हमेशा पर्याप्त जानकारी प्राप्त कर लें  जिनसे उनकी कीमत प्रभावित होती है।

कई ब्रोकर सचमुच में आवश्यक जानकारी पाना आसान बनाते हैं। वे आसानी से एक्सेस किए जा सक्ने वाले चार्ट, सूचक और अन्य तकनीकी विश्लेषण हेतु टूल उपलब्ध कराते हैं जिन्हें आप अपने ज्ञान वर्धन के लिए प्रयोग में ला सकते हैं। अगर आप किसी विशेष लिखत में निवेश करना चाहते हैं तो उन कारकों को समझने में अपना समय दें जो उसकी कीमत को पूरी तरह बदल सकते हैं, भले ही इसमें आपको घंटों लग जाएँ। ये ज्ञान आपके पैसे बचाने में सहायक होगा।

3. ट्रेड का जोखिम न जाननासीएफडी ट्रेडिंग गलतियों से बचें

यह सबसे आम और आसानी से टाली जा सकने वाली गलती है। ट्रेडर केवल उस ट्रेड में पैसा लगते हैं जहां मुनाफे की संभावना , संभावित घाटे से कम होती है। इस तरह के कई ट्रेड आसानी आपका पूरा खाता खाली कर सकते हैं।

किसी भी ट्रेड को लगाने से पहले, उस पर संभावित घाटे और लाभ पर तुलनात्मक रूप से विचार करें। अगर घाटा ज़्यादा हो,  तो बेहतर होगा की आप बढ़ते लेवेरेज या निवेशित राशि को भूलकर उस ट्रेड को जाने दें।

आपके जोखिम प्रबंधन में ट्रेड करने के लिए कुछ इन्स्ट्रूमेंट्स ढूँढना भी शामिल है। ज़्यादातर ब्रोकर ट्रेडरों को दर्जनों इन्स्ट्रुमेंट ऑफर करते हैं। इसका मतलब यह नहीं कि आपको हर एक पर निवेश करना होगा। अपना पोर्टफोलियो बनाने के लिए दो से पाँच इन्स्ट्रुमेंट की पहचान करना अधिक विवेकपूर्ण होगा। यह जितना संभव हो इन्स्ट्रुमेंट के बारे में सीखने में आपकी मदद करता है और और आपको ऐसी ट्रेड करने की स्थिति में ले आता  है  जहां संभावनाएं आपके पक्ष में हों।

4. अपनी योजना न बनाना या योजना पर काम न करना

हर सफल ट्रेडर एक योजना के साथ ट्रेड में उतरता है। योजना बनाने में कई प्रश्नों के उत्तर निहित होते हैं जैसे:

– आप किस वित्तीय इन्स्ट्रुमेंट पर ट्रेड करना चाहते हैं?

– आपकी वर्तमान स्थिति के आधार पर आप उस इन्स्ट्रुमेंट का लंबे समय के लिए, थोड़े समय के लिए चुनाव करेंगे या उस इन्स्ट्रुमेंट पर निवेश करने से बचेंगे?

– आप कितनी अधिकतम या न्यूनतम राशि निवेश करेंगे?

– आप कितने समय के लिए यह स्थिति बनाए रखेंगे?

– आप ट्रेड के लिए क्या कार्य नीति अपनाएँगे?

– आप अपने मुनाफे को दोबारा निवेश करेंगे या उसे बचा के रखेंगे?

ये बस उन प्रश्नों में से कुछ प्रश्न हैं जिनका उत्तर देना ट्रेडिंग में उतरने से आपके लिए ज़रूरी है।लेकिन ये प्रश्न उठाने से पहले आपको कम से कम ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और इन्स्ट्रुमेंट का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।

अपनी योजना को पूरा न करना दूसरी ऐसी ही गलती है। उदाहरण के लिए, आप किसी घाटे की ट्रेड को उसके दुबारा उछलने की उम्मीद में लंबे समय तक रखने का निर्णय ले सकते हैं। अगर यह घाटे की स्थिति में ही रहती है , आपके घाटे इकठ्ठा होने लगते हैं। अगर आपकी योजना काम नहीं कर रही है, तो सर्वश्रेष्ठ है कि आप पहले तो ट्रेडिंग रोक दें और फिर शुरू से शुरू करें। सफल योजना बनाने के लिए अनुभवी ट्रेडरों से सीखना भी एक रास्ता है।

5. स्टॉप ऑर्डर का उपयोग न करनासीएफडी स्कैमर ब्रोकर

स्टॉप किसी भी सीएफ़डी ट्रेडर के के लिए उपलब्ध सबसे महत्वपूर्ण जोखिम प्रबंधन टूल है। जाब आप अपने मुनाफे को लोक करना चाहते हैं या घाटे को कम करना चाहते हैं तो यह बहुत काम आता है। उचित होगा कि आप अपने हर ट्रेड पर स्टॉप ऑर्डर का प्रयोग करें। यह आपको एक जीती हुई ट्रेड, जिसकी कीमत अचानक पलट जाती है, पर अपने अर्जित लाभ को निश्चित करने और घाटे को कम करने मे मदद करता है।

स्टॉप ऑर्डर प्रयोग करने की दूसरी कार्यनीति उसे थोड़ा दूरी पर रखना है। कई ट्रेडर स्टॉप ऑर्डर शुरुआती कीमत के इतनी नजदीक रखते हैं कि स्टॉप के काम करते ही अंतत: उन्हें कोई लाभ नहीं होता। लेकिन, इसका मतलब यह नहीं कि आप स्टॉप को बहुत अधिक दूरी पर लगाएँ। अगर आप सही तरीके से योजना बनाएँ, जोखिम प्रबंधन तकनीकों को प्रयोग में लाएँ और ऐसा भविष्य चुनें जहां जीतने की संभावना अधिक हो तो, आप आत्मविश्वास के साथ सही जगह पर अपना स्टॉप ऑर्डर लगा पाएंगे।

सीएफ़डी ट्रेडिंग एक जोखिमभरा काम है। कई ट्रेडर आसानी से टाली जा सकने वाली गलतियों के कारण अपना खाता खाली होते देखकर सीएफ़डी में निवेश बंद कर देंगे। बहुत सी और अलग गलतियाँ है जिन्हें हमने यहाँ नहीं बताया है। लेकिन अगर आप ऊपर दी हुई पाँच गलतियों से बच सकते हैं तो आप अपना ट्रेडिंग खाता बढ़ते हुए बड़े घाटों का सामना करने से बच सकते हैं।

अगर आप सीएफ़डी ट्रेडिंग पर नए हैं तो हम  24ऑप्शन की अनुशंसा  करेंगे। उनका  प्रशिक्षण केंद्र बहुत अच्छा और  अपने आप में अनूठा है! 

 

Click here to get this post in PDF