एक ऑप्शन्स ट्रेडर के तौर पर, आप शायद ट्रेंड्स का प्रयोग करके यह निर्णय ले सकते होंगे कि लाभदायक ट्रेड के लिए कब ट्रेड लगानी हैolymp trade और कब ट्रेड से बाहर आना है।बिना बड़ा जोखिम लिए लगातार लाभ कमाने के लिए ट्रेंड्स पढ़ना एक अच्छा तरीका है।

समस्या यह है कि, ट्रेंड पहचानने में काफी लंबा समय लग सकता है और इस तरह की कार्यनीति के जरिये कमाया गया मुनाफा काफी कम हो सकता है।

कुछ अन्य ट्रेडिंग कार्यनीतियाँ उपलब्ध हैं। Breakout कार्यनीति प्रोफेशनल ट्रेडरों द्वारा आमतौर पर प्रयोग की जाने वाली कार्यनीतियों में से एक है।

Breakout ट्रेडिंग कार्यनीती क्या है?

यह एक ट्रेडिंग कार्यनीति है जो मूल्य में उतार – चढ़ाव पर आधारित है। उदाहरण के लिए, मान लेते हैं कि आप किसी निश्चित करेंसी जोड़े के मूल्य बदलावों का कई घंटों से अनुसरण कर रहे हैं।

अपने विश्लेषण से आपने पाया कि मूल्य एक निश्चित मूल्य बिन्दु से ऊपर कभी कभार ही जाता है। यह एक निश्चित मूल्य बिन्दु से नीचे भी नहीं जाता है।

पहले वाले को आमतौर पर प्रतिरोध मूल्य सीमा कहा जाता है जबकि बाद वाले को समर्थन मूल्य सीमा कहते हैं। फिर अचानक ही मूल्य प्रतिरोध मूल्य सीमा से ऊपर चला जाता है या समर्थन मूल्य सीमा से नीचे चला जाता है।

यह ट्रेंड एक निश्चित समय तक चलता है। जिस समय मूल्य प्रतिरोध मूल्य सीमा से ऊपर जाता है या समर्थन मूल्य सीमा से नीचे जाता हाओ, उसे Breakout बोलते हैं। इस प्रकार Breakout कार्यनीति ट्रेंड्स में breakout को पहचानने और उनसे मुनाफा कमाने पर मुख्य रूप से ध्यान देती है।

यह कैसे किया जाता है?

जब कोई breakthrough होगा तो आप उसे स्पष्ट रूप से पहचान लेंगे। यह आमतौर पर एक अतिरिक्त लंबी कैण्डल द्वारा पहचाना जा सकता है जो मूल्य में एक अकस्मात उतार चढ़ाव को प्रकट करती है जो बहुत थोड़े समय के लिए हुआ हो।

कैण्डल प्रतिरोध स्तर के ऊपर या समर्थन स्तर के नीचे बंद होती है। जैसे ही आप breakthrough बिन्दु पहचान लेते हैं, आपका काम होता है अनुमान लगाना कि मूल्य कब तक घटेगा या बढ़ेगा। इस तरह आप आसानी से लाभप्रद ट्रेड्स लगा सकते हैं और उससे बाहर आ सकते हैं।

दो तरीके हैं जो मैं ब्रेकिंग पॉइंट्स पहचानने के लिए आमतौर पर इस्तेमाल करता हूँ।

Olymp Trade डेमो खाते के लिए साइन अप करें और अपने खाते में $10000 पाएँ।olymp trade review

olymp trade review1. समर्थन और प्रतिरोध मूल्य बिन्दुओं का प्रयोग करके Breakout बिन्दु पहचानना। कैण्डलस्टिक चार्ट का प्रयोग करते समय आप देखेंगे कि विस्तृत समयावधि में मूल्य में बदलाव ज़्यादातर दो मूल्य बिन्दुओं के बीच ही रहते हैं।

यानि कि, कीमतें निश्चित मूल्य बिन्दुओं के ऊपर या नीचे कभी कभार ही जाती हैं। उच्च मूल्य बिन्दु को प्रतिरोध स्तर जबकि निम्न मूल्य बिन्दु को समर्थन स्तर कहते हैं।

लेकिन, कीमतें नियमित रूप से इन मूल्य बिन्दुओं के ऊपर और नीचे जाती रहती हैं।

उस समय आप एक मोटी और लंबी कैण्डल देखेंगे जो प्रतिरोध स्तर के ऊपर और समर्थन स्तर के नीचे बंद होती है।

जिस बिन्दु पर मूल्य बदलाव अचानक बदल जाते हैं उसे ब्रेकिंग पॉइंट कहते हैं। एक चीज मैंने breakthrough कार्यनीति का प्रयोग करते समय देखी है कि जब ब्रेकपॉइंट आता है तो एक निश्चित समय तक कीमतों का घटना या बढ़ना जारी रहता है जब तक किट्रेंड पलट नहीं जाता।.

यह वह समय है जब ट्रेड लगाई जा सकती है और मुनाफा कमाया जा सकता है।

नोट: प्रतिरोध/ समर्थन स्तरों पर नज़र रखना ब्रेकिंग पॉइंट्स का अनुमान लगाने का आसान तरीका है। जब कीमत इनमें से किसी भी बिन्दु के नजदीक जाए उस समय आप अपनी नज़र वॉल्यूम पर रखें। अगर वॉल्यूम अधिक हो तो संभावना है कि एक ब्रेकिंग पॉइंट आएगा।

2. आने वाले ब्रेकिंग पॉइंट का ट्रेडिंग सीमाओं का प्रयोग कर अनुमान लगाना। कई बार, मैं ट्रेडिंग सीमाओं का प्रयोग कर संभावित ब्रेकिंग पॉइंट का अनुमान लगाने का प्रयास करता हूँ।

ट्रेडिंग सीमाएं साधारणतया प्रतिरोध स्तर और समर्थन स्तर के बीच का अंतर है। जैसा कि पहले बताया है, breakthrough से पहले मूल्य बदलाव कुछ समय तक एक सीमा के अंदर ही रहते हैं।

इस कार्यनीति की अपनी खामियां भी हैं जिनमें सबसे आम हैं बनावटी breakthrough और breakthrough के मूल्य का फिर से पुरानी स्थिति में लौट जाना।

olymp trade scam

कुछ नियम हैं जो प्रोफेशनल्सइस कार्यनीति का प्रयोग करते समय अपनाते हैं:

i. अगर ट्रेडिंग रेंज लंबे समय तक रहती है, तो breakthrough होने की संभावना उच्च रहती है।

ii. अगर ट्रेडिंग रेंज संकुचित हैं तो breakout अधिक भरोसेमंद और लाभप्रद संकेत देता है।

iii. जब breakout होता है, बेहतर होता है कि या तो आप लंबे समय की ट्रेड लगाएँ या फिर शुरुआत में कुछ समय इंतज़ार करें कि कहीं ट्रेंड अचानक पलट तो नहीं रहा।

iv. breakout ट्रेडिंग कार्यनीति का प्रयोग करते समय, अपना स्टॉप लॉस ब्रेकआउट कैण्डल के नीचे ही रखें इससे बनावटी ब्रेकआउट या अचानक मूल्य बदलाव पलटने की स्थिति में आपका घाटा न्यूनतम रहेगा।

Olymp Trade प्लैटफॉर्म पर Breakout कार्यनीति का उपयोग कर ट्रेड लगाने का एक उदाहरण देखते हैं

मैं इस उदाहरण में USD/EUR करेंसी जोड़े का प्रयोग करने जा रहा हूँ। इसका कारण है कि ये करेंसी जोड़े काफी परिवर्तनशील प्रवृत्ति के होते हैं। इस कारण प्राय: breakout होने की संभावना उच्च रहती है।

1. पहला काम मैं ये करूंगा कि चार्ट के प्रकार को जापानी कैण्डलस्टिक में बादल दूँगा।

2. अगला काम होगा प्रतिरोध और समर्थन स्तरों को पहचानना।

3. फिर जब तक breakout नहीं होता में मूल्य बदलावों पर नज़र रखूँगा। इस मामले में, मूल्य प्रतिरोध स्तर से ऊपर जा रहा है। मैं खरीद करूंगा और ट्रेड का समय 30 सेकंड रखूँगा।

4. 30 सेकंड बाद भी अगर मूल्य बढ़ रहा है तो मैं मुनाफा कमा लूँगा।

आज ही Olymp Trade के डेमो खाते के लिए साइन अप करें और ट्रेड करने के लिए $10000 पाएँ!

Breakthrough कार्यनीति का प्रयोग करते समय ध्यान रखने योग्य बातें
olymp trade india

1. इस कार्यनीति का प्रयोग करते समय आपका मुख्य लक्ष्य ब्रेकिंग पॉइंट को पहचानना है।

यानि कि जब मूल्य ट्रेडिंग सीमाओं से कम या ज्यादा हो।

ब्रेकिंग पॉइंट वह बिन्दु है जहां आप ट्रेड लगाएंगे। ट्रेड में प्रवेश करने के साथ-साथ आपको अनुमान लगाना होगा कि कितने समय तक मूल्य ब्रेकिंग पॉइंट के ऊपर या नीचे रहेगा।

यह बड़ा मुनाफा कमाने और घाटे को न्यूनतम रखने में आपकी मदद करेगा।

2. Breakthrough ट्रेडिंग उन सक्रिय बाज़ारों सबसे अच्छी तरह काम करती हैं जहां पर मांग और आपूर्ति लगातार बदलते रहते हैं। मैं ज़्यादातर इसे FX करेंसी जोड़े और क्रिप्टोकरेंसी पर प्रयोग करने का सुझाव देता हूँ।.

olymp trade login

Click here to get this post in PDF